नॉर्वे में गिरा उल्का पिंड: आसमान में तेज आवाज के साथ दिखी रोशनी, कुछ हिस्सा ओस्लो के पास गिरने की रिपोर्ट; किसी नुकसान की खबर नहीं


41 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

होलमेस्ट्रैंड कस्बे में लगे एक वेब कैमरे ने आसमान से गिरते फायरबॉल को कैप्चर किया था।

नॉर्वे के आसमान में रविवार को एक बड़ा उल्का पिंड दिखाई दिया। लोगों को आसमान में इस उल्का पिंड की गड़गड़ाहट सुनाई दी और रोशनी नजर आई। एक्सपर्ट का कहना है कि हो सकता है कि इसका कुछ हिस्सा राजधानी ओस्लो के करीब गिरा हो। हालांकि अभी तक किसी तरह के नुकसान की कोई खबर नहीं है।

उल्का पिंड दिखने की खबरें सुबह करीब 1 बजे ट्रोनधेम शहर से आनी शुरू हुईं थीं। होलमेस्ट्रैंड कस्बे में लगे एक वेब कैमरे ने आसमान से गिरते फायरबॉल को कैप्चर किया था। नॉर्वे का उल्का पिंड नेटवर्क वीडियो फुटेज का एनालिसिस कर उल्का पिंड के ओरिजन और इसके गिरने की जगह का पता लगाने की कोशिश कर रहा है। शुरुआती जांच में यह सामने आया है कि उल्का पिंड ओस्लो से 60 किमी दूर फिनेमार्का के जंगली इलाके में गिरा होगा।

उल्का पिंड नेटवर्क के मोर्टेन बिलेट जिन्होंने उल्का पिंड को गिरते देखा, उन्होंने बताया कि यह बहुत तेज था। रविवार दोपहर तक इसका कोई मलबा नहीं मिला था। बिलेट का कहना है कि संभावित उल्कापिंडों की खोज में करीब 10 साल लग सकते हैं।

5-6 सेकेंड तक चमका उल्का पिंड
बिलेट ने बताया कि उल्का पिंड 15-20 किमी प्रति सेकेंड की रफ्तार से बढ़ रहा था और आसमान में करीब 5-6 सेकेंड तक इसकी चमक दिखाई दी। कुछ लोगों ने यह भी कहा कि उन्होंने इस घटना के साथ एक तेज हवा का झटका महसूस किया, जिससे दबाव की लहर भी पैदा हुई।

बिलेट ने कहा कि कल रात मंगल और बृहस्पति के बीच से एक बड़ी चट्टान के गुजरने करने की संभावना थी, जो कि हमारा क्षुद्र ग्रह बेल्ट है। जब वह गुजरता है तो एक गड़गड़ाहट और प्रकाश पैदा करता है। यह हम एक्सपर्ट के लिए एक उत्साह जबकि कुछ लोगों के लिए डर का विषय होता है।

2013 में रूस के चेलयाबिंन्स्क शहर के पास एक उल्कापिंड गिरा था। इसकी वजह से 1200 लोग घायल हुए थे और काफी इमारतों को नुकसान पहुंचा था।

खबरें और भी हैं…



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *